गांव की नेहा ने भोजपुरी गायन में बनायी पहचान

0
493

संग्राम में गाते देख मोहन राठौर से हुई थी प्रभावित
भभुआ (ग्रामीण) : थाना क्षेत्र के गोड़हन गांव के मदन तिवारी की पुत्री नेहा की शादी चांद थाना क्षेत्र के बराढ़ी गांव में सौरभ पाठक के साथ हुई. शादी के बाद नेहा पाठक ने अपने पति से गायन के क्षेत्र में जाने की इच्छा जाहीर की. उनकी स्वीकृति से गायन प्रारंभ कर दिया. आज नेहा पाठक अपने आवाज के दम पर गायकी के क्षेत्र में सैकड़ों गाने गाकर अपनी एक अलग पहचान बना चुकी है.

नेहा ने बताया कि सुर संग्राम में मैं जब मोहन राठौर को टीवी पर गाना गाते देखा, तो उनके सूर-ताल से प्रभावित होकर गायन के क्षेत्र जाने का मन बना लिया और अपने पति की इच्छा से गाना गाने लगी. नेहा आगे चल कर कल्पना की तरह बनना चाहती है. उन्होंने बताया की लड़कियां चाहे ग्रामीण परीवेश की हो या शहर की.

उसके पास कोई भी हुनर है तो उसे दबा कर नहीं रखना चाहिए. उसे किसी न किसी माध्यम से सामने लाकर अपना और अपने समाज का नाम रोशन करना चाहिए. उन्होंने बताया कि कॉलेज के दिनों में कॉलेज के प्रोग्राम में भाग लेती थी. लोग मेरे रोल को देख कर मेरी तारीफ किया करते थे. मेरा शौक था कि मैं भी गायक बनूं.